jara sochiye

समाज में व्याप्त विक्रतियों को संज्ञान में लाना और उनमे सुधार के प्रयास करना ही मेरे ब्लोग्स का उद्देश्य है.

250 Posts

1565 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 855 postid : 131

नारी सशक्तिकरण(EMPOWERMENT OF WOMEN )

Posted On: 3 Apr, 2011 Junction Forum में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

#प्रत्येक जीव की भांति मानव भी दो अवस्थाओं में पैदा होता है। अर्थात नर एवं मादा। परन्तु सभी जीवों को छोड़कर सिर्फ मानव समाज ही महिलाओं के साथ पक्षपातपूर्ण व्यव्हार करता है। उसे दोयम दर्जे का स्थान देता है।आखिर क्यों? क्योंकि नारी पुरुष के मुकाबले कम बलवान है, माना कुछ हद तक वह कम शक्तिशाली है, परन्तु मातृत्व शक्ति का वरदान जो उसे मिला हुआ है क्या वह पुरुष के पास है?फिर उसे क्यों समय समय पर अपमानित किया जाता है, उसे प्रताड़ित किया जाता है, उसे अबला माना जाता है?

#दहेज़ की चिंता के वशीभूत होकर माता-पिता आज भी अपनी बेटी को उसकी योग्यता के अनुसार उच्च शिक्षा दिलाने से कतराते हैं। क्योंकि अधिक शिक्षित लड़की के लिए उच्च शिक्षित वर्ग का लड़का चाहिए, जिसके लिए अधिक दहेज़ की आवश्यकता होगी।

#हिन्दू एवं मुस्लिम समाज में आज भी महिलाओं के साथ पक्षपातपूर्ण व्यव्हार किया जाता है,क्यों?

#नारी के उत्थान में सबसे बड़ी बाधा स्वयं नारी (सास-ननद,जेठानी-देवरानी,इत्यादि) ही बनी हुई है.जब महिला ही महिला के प्रति संवेदनशील नहीं होगी तो नारी उत्थान कैसे संभव होगा। उसे समानता का अधिकार कैसेमिलेगा?

#क्या हम दावे के साथ कह सकते हैं की महिला को आजादी के तरेसठ वर्ष पश्चात् समानता के अधिकार प्राप्त होगए हैं,नारी शोषण समाप्त हो चुका है,सही अर्थों में महिला को सम्मान मिलने लगा है। मेट्रो शहरों में चलने वाली पब्लिक ट्रांसपोर्ट में महिलाओं का सफ़र करना आज भी सुरक्षित हो पाया है?

#क्या महिला को आज भी खेलने की वस्तु या छेड़ने का सामान नहीं समझा जाता? उसे उपभोग की चीज मान कर विज्ञापनों में प्रदर्शित नहीं किया जाता?प्रत्येक बड़ी कंपनी या छोटी सभी में आगंतुकों के आदर सत्कार के लिए रिसेप्निष्ट के तौर पर महिला को ही भरती किया जाता है क्यों ?एयर होस्टेस के पद पर महिला ही क्यों ?

मेरे नवीनतम समाजिक और राजनैतिक  लेख अब वेबसाइट WWW.JARASOCHIYE.COM पर भी उपलब्ध हैं,साईट पर आपका स्वागत है.

*SATYA SHEEL AGRAWAL*नारी उत्थान अभियान
* (blogger)*

| NEXT

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

153 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Www.Youtube.Com के द्वारा
10/01/2018

I merely would not depart your . Human Artificial Eyesinternet site before hinting we definitely treasured the typical information and facts someone present in your guests? Will probably be once more generally so as to check out new posts

Artificial Eye manufacturers के द्वारा
03/01/2018

Were a bunch of volunteers plus starting up a completely new program in the community. Your website provided us useful information to figure about Artificial Eye manufacturers. You have done a challenging occupation and also the entire neighborhood will probably be fortunate for your requirements.

eyeglasses online in india के द्वारा
23/11/2017

It is in point of fact an excellent and also helpful little bit of facts.. eyeglasses online in india I’m satisfied that you simply distributed this convenient information and facts around. Make sure you keep us current like that. We appreciate you expressing.

Dutta Optics के द्वारा
12/11/2017

I truly do rely on the many thoughts you have displayed for your article. They are simply begging which enable it to absolutely work. Continue to, a threads particularly fast to start. May you please increase these people somewhat out of following moment? Information publish.


topic of the week



latest from jagran